Beti Hun Mai

100

+ Rs. 70 Shipping charge

Select Option:
Description

1 अक्टूबर 1988 स्थान- जिला- कटनी ग्राम- करेला मध्य प्रदेश मेरा जन्म मध्य प्रदेश के कटनी जिले के अंतर्गत आने वाले एक गांव करेला में हुआ। मैं एक साधारण परिवार में पली बढ़ी हूँ। मेरे पापा एक सरकारी कर्मचारी हैं। मेरी माँ एक गृहणी हैं। हम दो भाई व पांच भाई हैं। मेरे स्कूल की पढ़ाई मेरे गाँव के स्कूल में ही पूरी हुई। बचपन से ही मुझे पढ़ने का शौक था। पढ़ाई के अलावा मुझे कविता लिखने का भी शौक है। मेरा बचपन काफ़ी खुशहाली से बीता है। मेरे माँ-पापा ने हम सभी भाई-बहनों को खूब सारा प्यार दिया। हमारी हर जायज मांगों को पूरा किया। हम सबको पढ़ाया लिखाया और अच्छे संस्कार देने की कोशिश की। मैं बहनों में सबसे बड़ी हूँ। मेरी एक छोटी-सी प्यारी बहन है जिसने कभी एक दोस्त की कमी महसूस नहीं होने दी। मेरे दो बड़े भाई मुझसे बड़े हैं व तीन भाई मुझसे छोटे हैं। मेरे बड़े भाइयों ने मुझे हमेशा एक बड़े भाई का प्यार व सपोर्ट दिया जबकि मेरे छोटे भाई भी हमेशा मुझे हंसाते रहते हैं। मेरे साथ, मेरी ढाल बनकर खड़े रहते है। मेरे पापा एक धार्मिक प्रवृत्ति के इंसान हैं। उनकी सुबह राधाकृष्ण के नाम से शुरू होती है और दिन भर कड़ी मेहनत करते है। अपनी हर ज़िम्मेदारी को बखूबी निभाते हैं। मेरी माँ ममता की मूरत है। हम बच्चो के लिए उन्होंने अपना सारा जीवन न्योछावर कर दिया। मेरे स्कूल की पढाई खत्म कर लेने के बाद कॉलेज की पढाई के लिए मैं अपने पापा के पास कटनी आ गई। मेरा कॉलेज शासकीय कन्या महाविद्यालय था जहाँ से मैंने अपना स्नातक पूरा किया। जब मैं बी. ए द्वितीय वर्ष में पढ़ाई कर रही थी। तब मेरी मुलाकात मेरी टीचर से हुई जो मेरी क्लास टीचर भी थी। उनका नाम अमिता मिश्रा है। उनका स्वाभाव बहुत ही नम्र व हंसमुख है। वे सिर्फ मेरी टीचर नहीं है बल्कि मेरी सबसे अच्छी दोस्त भी है। लिखने का शौक तो मुझे था पर लिखने का ढंग व लिखने की गहराई का पता मुझे मेरी टीचर से मिल कर ही पता चला। कॉलेज टाइम में मैंने उनके लिए काफ़ी कवितायें लिखी तब उन्होंने ही मुझे लिखने के लिए प्रेरित किया व मेरा हांैसला बढ़ाया।

Shipping Details

• Dispatch in 1 to 2 days

Share
Size Chart
loading
Redirecting you to secure checkout for OnlineGatha